डॉ कुमार विश्वास की पहचान एक कवि और नेता की है। कुमार अपनी कविताओं की वजह से देश दुनिया में अपनी एक अलग पहचान स्थापित कर चुके हैं। वह अक्सर बिना लाग-लपेट की अपनी बात श्रोताओं तक पहुंचाते नजर आते हैं। बात चाहे मंच से अपनी बात पहुँचाने की हो या सोशल मीडिया के द्वारा वह बेहिचक राजनीति से लेकर अन्य मुद्दों पर बोलते रहे हैं। यह तब और ज्यादा महत्व रखता है जब वह खुद एक राजनीतिक दल से जुड़े हुए हैं। ऐसे में अपने दल का विरोध करने की हिम्मत करना बहुत बड़ी बात है। 

कुमार मंच से अक्सर कहते रहे हैं कि एक कवि और कलाकार को मंच पर चढ़ने से पहले राजनीति की जूतियाँ नीचे उतार देनी चाहिए। वह खुद ऐसा करते भी रहे हैं। शायद यही उनकी लोकप्रियता की प्रमुख वजह भी है। युवाओं के मन की बात करने वाले कुमार का ही जादू है कि आज कवितायेँ सुनी जाती हैं। इन सब से परे कुमार का एक दूसरा रूप है। वह है देशभक्त कुमार। जो कभी दौलत न अता करना मौला जैसी कवितायेँ सियाचिन में सैनिकों को सुना उनका हौसला बढ़ाते हैं तो कभी प्रखर और मुखर हो कर देश में तथाकथित राष्ट्रवाद और भ्रष्टाचार से लड़ने वालों को खरी-खोटी सुनाते हैं। नेता कुमार विश्वास आम आदमी पार्टी का है,कवि कुमार विश्वास हजारों-लाखों प्यार के गीत सुनने को आतुर युवाओं और प्रशंसकों के लिए हैं,सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना आन्दोलन और अन्य मुद्दों को उठाने के लिए है लेकिन देशभक्ति में कुमार इन सबसे ऊपर हैं। यही उनकी पहचान है। यही वजह है कि जब भी देश के वीर जवानों और इस मिट्टी की बात होती है तो रवि से आगे रहने वाले कवि कुल के कुमार नेता और कवि से पहले भारतीय बन देश के लिए सोचते और बोलते नज़र आते हैं।

डॉ कुमार विश्वास ने अभी एक वीडियो रिलीज़ किया है। इस वीडियो में कुमार ने कश्मीर से कुलभूषण तक,केजरीवाल से करप्शन तक,किसान से पाकिस्तान तक,और कलाम से लेकर आवाम तक खूब बोला है। न इसमें राजनीति है न आरोप है इसमें है तो देश और देश के वीर सैनिकों के साथ पाकिस्तान की जेल में बंद भारत के बेटे कुलभूषण जाधव के प्रति चिंता,किसानों की अताम्हत्या की व्यथा,अब्दुल और अटल की चर्चा। साथ में है राजनीति की रोटी सेंकने वालों को चेतावनी और सलाह।

जवानों की हालत पर हुक्मरानों की क्लास-

कुमार विश्वास ने अपने इस वीडियो में कश्मीर में जवानों की हालत पर चिंता जताते हुए कई बातें कही हैं। उन्होंने हाल ही में आये वीडियो का हवाला देते हुए लिखा कि दो दिन से मन विचलित है। वीडियो में कुछ लफंगे सेना के जवानों को लात मारते,गालियाँ देते और हेलमेट छिनते दिख रहे हैं। सेना के जवानों के हाथ में हथियार हैं लेकिन वह कानून और मानवाधिकार की बेड़ियों से बंधे हुए हैं। क्या हम इस देश में कुछ देर चापलूसी छोड़ कर देश के लिए नहीं सोच सकते? कश्मीर में लोगों को या तो भय है या लोकतान्त्रिक व्यवस्था में भरोसा नहीं है। हमारे पास चेहरे आते रहते हैं। हम इन्ही के पीछे हैं लेकिन देश इनसे नहीं चलता देश मोदी-मोदी,इंदिरा-इंदिरा,केजरीवाल-केजरीवाल,राहुल-राहुल करने से नहीं चलता। सत्ता और चेहरे समय-समय पर बदल जाते हैं। देश पांच हज़ार साल पहले भी था आज भी है और आगे भी हजारों वर्षों तक रहेगा। इसलिए हमें इन सब चीजों से ऊपर उठकर अपने कोटरों से बाहर निकल कर सोचने की जरुरत है।

केजरीवाल पर बवाल,भ्रष्टाचार से लड़ाई पर सवाल-

केजरीवाल पर परोक्ष रूप से निशाना साधते हुए कुमार ने कहा कि सेना के वीर जवान सर्जिकल स्ट्राइक कर के आते हैं लेकिन कुछ लोग श्रेय लेने में लग जाते हैं और कुछ सवाल उठाने में। यह गलत है। भ्रष्टाचार को लेकर बोलते हुए विश्वास ने कहा कि जिस बुनियाद पर सरकार बनी आज वही गायब है भ्रष्टाचार के मुद्दे पर ख़ामोशी है।

नरमुंड लेकर घूमते किसानों का दर्द-

कुमार विश्वास ने किसानों की स्थिति पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि यहाँ हजारों-करोड़ लेकर विदेश भागने वाले पूंजीपतियों के क़र्ज़ माफ़ कर दिए जाते हैं लेकिन आत्महत्या कर चुके किसानों के नरमुंड लेकर जंतर-मंतर पर बैठे अन्नदाताओं का दर्द किसी को नहीं दिखता है। आंकड़ों के खेल खेले जाते रहे हैं लेकिन समस्या का निदान आज तक नहीं हो सका है।

लाल चौक पर गूंजेंगे देशभक्ति के गीत-

कुमार ने अपने वीडियो में मुरली मनोहर जोशी और नरेन्द्र मोदी की चर्चा करते हुए याद दिलाया है कि जब कश्मीर के हालात ख़राब थे और तिरंगा फहराना भी दूभर था। ऐसे में जोशी और मोदी जी ने बारामुला के लाल चौक पर तिरंगा लहराया लेकिन अब राज्य और देश में सरकार होने के बावजूद ऐसी क्या समस्या है जो यह नहीं हो सकता। स्थिति नहीं सुधर रही। आप आगे बढ़ें हम और अन्य नागरिक आपके साथ चलेंगे। लाल किले के बाद लाल चौक पर भी तिरंगा लहरेगा।

पाकिस्तान को ललकार,कारवाई करे सरकार-

कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान में मिली फांसी के बाद भारत के रवैये पर सवाल उठाते हुए कुमार ने कहा कि संसद में चिल्लाने से कुछ नहीं होगा। अमेरिका की तरफ मुह कर देखना बंद करें। आपने अमेरिका से मांग की है कि पाकिस्तान को आतंकवादी देश घोषित करें लेकिन क्या आपने आज तक पाक को नापाक घोषित किया है? पहले आप करें?आपने पाकिस्तान को उलटे बिज़नेस के लिए पाकिस्तान को मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा दिया हुआ है। क्या पाकिस्तान से कपास और प्याज नहीं आएगा तो हम मर जायेंगे?अगर मरते हैं तो मर जाएँ लेकिन यह सब बंद किया जाए।

अब्दुल,अटल की दिलाई याद-

अटल बिहारी वाजपेयी और अब्दुल कलाम को याद करते हुए कुमार ने कहा कि पोखरण परमाणु परीक्षण के बाद अमेरिका ने हमपर कई प्रतिबंध लगाये थे लेकिन पंडित अटल जी ने कहा कि हम अपने आत्मसम्मान से समझौता नहीं कर सकते और आज यही अमेरिका हमारे सामने व्यापार करने के लिए हाथ जोड़े खड़ा है। इसी की जरुरत है। हमें एकजुट होकर देश के लिए लड़ना होगा चाटुकारिता त्यागनी होगी इसी में देश का भला है।

कुमार विश्वास के इस विडियो को लाखों लोगों ने अब तक देखा है साथ ही प्रतिक्रियाएं भी आ रही है।मीडिया में आज इस पर कहानियां चलाई जा रही है लेकिन अफ्सों कुमार ने जो कहा उस बात को लोगों तक पहुँचाने के बदले यह कुमार और केजरीवाल के रिश्ते और मोदी से नजदीकियां ढूंढने में लग गए हैं।

देखें पूरा विडियो-