खेल

धोनी ,होनी और अनहोनी

भारतीय क्रिकेट के इतिहास में अब तक के सबसे सफलतम कप्तान के संन्यास का फैसला,ये खबर सुनते ही कुछ दुखी हुए,कुछ मुँह लटका लिए,कुछ सदमे में चले गए,कुछ कोसने लगे,और कोई गलत सही बड़बड़ाने लगे लेकिन जो एक जी सब में एक जैसी थी वह यह थी की बड़ा से बड़ा विरोधी,कोहली का फैन या किसी भी वजह से धोनी के इस फैसले से खुश कोई नहीं था।ये करिश्मा है झारखण्ड के माही का,यह अपने आप में बड़ी उपलब्धि है,उसने वो सब पाया जो देश ने,टीम ने,और हम सब ने सोचा था,धोनी ने अनहोनी को होनी कर दिखाया,यह कमाल है।

ms.jpg

झारखण्ड के एक छोटे से मध्यम वर्गीय परिवार से आने वाले धोनी के कमाल आज भारतीय क्रिकेट की किताब में सुनहरे अक्षरों में लिखे हुए हैं,हम ट्वेंटी-ट्वेंटी के अलावा वनडे वर्ल्डकप और चैंपियंस ट्रॉफी के विजेता हैं,टेस्ट में हम नंबर 1 धोनी की कप्तानी में पहुंचे,यहाँ हम शब्द का इस्तेमाल मैंने भारत में क्रिकेट के लिए पागलपन और हमेशा बस उम्मीद के साथ खेलने और देखने वालों के लिए किया है,धोनी ने अपने प्रयास,खेल,मेहनत और कप्तानी से 125 करोड़ लोगों का हर ख्वाब पूरा कर दिया।

msd.jpg

आलोचना और तारीफ़ में हमारी कोई बराबरी नहीं है,मैच जीतते ही हम पलकों पर बिठाते हैं,और हारते ही चप्पल जूतों की बरसात कर देते हैं,धोनी के कप्तानी छोड़ने के बाद इसकी चर्चा इसलिए कर रहा हूँ क्योंकि आज हम उनकी वजह से दुखी हैं लेकिन जब एक कप्तान हार गया हो और हम उसके घर,परिवार पर हमला कर रहे होते थे तब उसे कितना दुःख हुआ होगा,हार या जीत से हम और आप से ज्यादा टीम खिलाडी और कप्तान दुखी होता है,तब तो आप ने दिया नहीं आज दुःख व्यक्त कर रहे हैं।

ms.jpg

धोनी का नाम से ज्यादा लंबा छक्का कौन भूल सकता है,ठन्डे दिमाग से लेने वाला फैसला जो सबसे ज्यादा पिट चुके बॉलर से भी मैच जितवा कर ले आये,चीते से भी तेज़ दौड़ कर जो रन चुरा सकता है,स्टंप उड़ा सकता है वो धोनी है,अटकलें हम धोनी के आने के बाद से लगातार लगाते रहे सच कोई नहीं हुई?वन मैच वंडर से लेकर किस्मत के भरोसे खेलने वाले खिलाड़ी तक हमने बहुत कुछ बोला,सोचा लेकिन फैसले की जब बात आई हम चौंकते रहे हैं,चाहे मैच के दौरान हो,शादी हो,फिल्म हो,प्रचार हो, आईपीएल हो,या टेस्ट मैच से सन्यास और कल का कप्तानी छोड़ने का फैसला सब अचानक लेकिन ये इतना भी आसान नहीं होता,आज जब हम एक ऊंचाई और कुर्सी पर रहते हैं तब हम जगह नहीं छोड़ना चाहते धोनी ने कप्तानी छोड़ दी,कयुनकी वो हमसे अलग है,हमसे महान् है।

d.jpg

धोनी की जीवनी पर बनी फिल्म में हमने उन्हें कहते देखा है कि देश के लिए टीम में बदलाव जरुरी है,कुछ लोग बोझ बन गए हैं और नए लोगों को मौका मिलना चाहिए बस इसी में उनकी कप्तानी छोड़ने के पीछे की वजह भी छुपी हुई है आप ढूंढ सकें तो पता लगा लें,बाकी मीडिया कुछ भी कारण बताये मेरे हिसाब से धोनी ने देश और टीम के साथ अपने लिए भी इंसाफ किया होगा।और आगे अपने बल्ले से और कीपिंग से देश का मान बढ़ाते रहेंगे।धोनी की जरूरत नए कप्तान और उनकी खुद की बनाई हुई टीम को भी है,हमें भी है,और इस देश के क्रिकेटप्रेमियों को भी है।हेलीकाप्टर शॉट जल्द देखेंगे।

Vijay Rai
Human by Birth,Hindu by Religion,Indian by Nationality,Politics is my choice,journalism-my passion.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.